एकता

इस दुनियां में भेदभाव कई स्‍तर पर है, जबकि एकता ही सभी चीजों का मूलाधार है। --- स्‍वामी विवेकानन्‍द
एक टिप्पणी भेजें