उत्‍साह

जिनमें उत्‍साह नहीं होता मित्र भी उनके दुश्‍मन हो जाते है। --- चाणक्‍य

कोई टिप्पणी नहीं: