परिस्थितियां

यदि परिस्थितियां अनुकूल है तो सीधे लक्ष्‍य की ओर चलो लेकिन यदि परिस्थितियां अनुकूल न हो तो उस मार्ग का अनुसरण करो जिसमें कम से कम बाधा आने की सम्‍भावना हो। --- संत तिरूवल्‍लुवर 

कोई टिप्पणी नहीं: