सुख सम्‍पदा

जहां पति पत्‍नी में कलह नहीं होती उतम कर्म होते है वहां सुख सम्‍पदा स्‍वयं ही आ जाती है।-- चाणक्‍य
एक टिप्पणी भेजें