दोष

साधारण लोग अपनी हर बुराई का दोषी दूसरे को ठहराते है अल्‍पज्ञानी स्‍वयं को और विशेष ज्ञानी किसी को नहीं। --- ऐपिक्‍टस

कोई टिप्पणी नहीं: