झूठ

झूठ बोलना तलवार की घाव की तरह है । घाव तो भर जाता है परंतु उसका निशान कभी नहीं जाता। --- शेख सादी 
एक टिप्पणी भेजें