जीवन मरण

अपने पैरों पर खड़े रहते हुए मरना घुटने टेक कर जीने से कहीं बेहतर है। --- एमिलियानो ज़पाटा

कोई टिप्पणी नहीं: