कठोर वाणी

कठोर वाणी अग्निदाह से भी अधिक तीव्रता से दुख पहुंचाती है। --- चाणक्‍य

कोई टिप्पणी नहीं: