हानि

जो हानि हो चुकी है उसके लिए शोक करना और अधिक हानि को निमंत्रण देना है।--- शेक्‍सपीयर

कोई टिप्पणी नहीं: