गुरुवार, सितंबर 12, 2013

हिन्‍दी तथा संस्‍कृत

शत्रु को पराजित करने के लिए ढाल तथा तलवार दोनों की आवश्‍यकता होती है। इसलिए हिन्‍दी तथा संस्‍कृत का अध्‍ययन मन लगा कर करो। --- स्‍वामी विवेकानंद 
एक टिप्पणी भेजें