मंगलवार, सितंबर 03, 2013

असंतोष

असंतोषी और असंतुष्‍ट व्‍यक्ति के लिए सभी कर्तव्‍य नीरस होते है। अत: उसका जीवन असफल होना स्‍वाभाविक है । -- स्‍वामी विवेकानन्‍द
एक टिप्पणी भेजें