भय

जैसे ही भय आपके करीब आए उस पर आक्रमण कर उसे नष्‍ट कर दीजिए। --- चाणक्‍य 

कोई टिप्पणी नहीं: