क्रोध

जिसके चित में कभी क्रोध नही आता और जिसके हृदय में सदैव परमेश्‍वर विराजमान रहता है वह इंसान ईश्‍वर तुल्‍य है । --- रैदास 

कोई टिप्पणी नहीं: