शनिवार, सितंबर 07, 2013

शिक्षा

जो शिक्षा हमें प्राचीन संस्‍थाओं तथा प्राचीन विचारों में ही फांसे रखें वह शिक्षा अर्वाचीन समय में शिक्षा कहलाने योग्‍य नहीं। --- गणेश शंकर विद्यार्थी 
एक टिप्पणी भेजें