एक दोष

बहुत से गुणों के होने के बावजूद भी सिर्फ एक दोष सब कुछ नष्‍ट कर देता है। --- चाणक्‍य

कोई टिप्पणी नहीं: