धर्म

क्‍या व्‍यक्तिगत और स्‍थानीय धर्म को राष्‍ट्रीय धर्म से ऊंचा स्‍थान नहीं देना चाहिए। इन धर्मों को ठीक से अनुपात में रखना ही सुख और समृद्धि लाता है। --- स्‍वामी रामतीर्थ
एक टिप्पणी भेजें