सोमवार, अक्तूबर 07, 2013

धर्म का पालन

मनुष्‍य अपने धर्म का पालन करे किंतु उसका कर्म दूसरों को अपमानित न करे यदि हम दूसरों को अपमानित करते है तो हम दूसरों के सम्‍मान के अधिकारी नहीं रहते । --- वेद व्‍यास
एक टिप्पणी भेजें