सोमवार, नवंबर 11, 2013

शेष

 मैं कभी नहीं देखता कि क्‍या किया जा चुका है । मैं हमेशा देखता हूं कि क्‍या किया जाना बाकी है । --- महात्‍मा बुद्ध 
एक टिप्पणी भेजें