चेतना

जैसे हम मांगते है हमारा हृदय सिकुड़ जाता है । चेतना के द्वार तत्‍काल बंद हो जाते है। --- ओशो 

कोई टिप्पणी नहीं: