मुस्‍कान

हम लोगों के जीवन में भले ही फूल न बिखेर सके कम से कम मुस्‍कान तो बिखेर सकते है। --- डिकिन्‍स

कोई टिप्पणी नहीं: