कर्तव्‍य

कर्तव्‍य ही ऐसा आदर्श है , जो कभी धोखा नहीं दे सकता । --- प्रेमचंद 

कोई टिप्पणी नहीं: