ब्रहमांड

ब्रहमांड अपनी सृष्टि स्‍वयं करता है । स्‍वयं विघटित होता है। स्‍वयं अभिव्‍यक्‍त भी होता है। --- स्‍वामी विवेकानंद 
एक टिप्पणी भेजें