गुस्‍सा

सज्‍जनों का गुस्‍सा पानी पर खीची गई लकीर के समान है। यह जल्‍द ही गायब हो जाता है। --- रामकृष्‍ण परमहंस 

कोई टिप्पणी नहीं: