विचार

यदि व्‍यक्ति विचारों को सजाकर मधुर ढंग से पेश करे तो संसार उसके आदेशों को मानने लगता है। -- तिरूवल्‍लुवर 

कोई टिप्पणी नहीं: