लोभ

 लोभ से बुद्धि नष्‍ट होती है, बुद्धि नष्‍ट होने से लज्‍जा , लज्‍जा नष्‍ट होने से धर्म तथा धर्म नष्‍ट होने से धन और सुख नष्‍ट हो जाता है। --- स्‍वामी विवेकानन्‍द 
एक टिप्पणी भेजें