विकास

जिस मानव की बुद्धि का विकास नहीं होता या जो अविवेकी होता है, मानवता से गिर जाता है। --- चाणक्‍य
एक टिप्पणी भेजें