मंगलवार, फ़रवरी 04, 2014

सत्‍यता

प्‍यार कभी निष्‍फल नहीं होता चरित्र कभी नहीं मरता और शौर्य तथा दृढ़ता से सपने सच हो जाते है। --- पीट मेराविच
एक टिप्पणी भेजें