भाषा

सभ्यता की भाषा में दिक्कत यह है की सब जगह और सब तरह के लोग उसे समझ नहीं पाते । असभ्यता की भाषा की शान यह है की उसे सब जानते है। -- रवीन्द्र नाथ ठकुर
एक टिप्पणी भेजें