मोह

संसार में रहो किन्तु संसार के मोह से दूर रहो। जिस प्रकार कीचड़ में कमल विकसित होता है लेकिन उसके पत्ते कीचड़ से दूर ही रहते है। -- स्वामी विवेकानंद 
एक टिप्पणी भेजें