दीपक

इंसानाें में विचार का दीपक बुझ जाए तो आचार और व्‍यवहार अंधा हो जाता है। --- विनोवा भावे 

कोई टिप्पणी नहीं: