क्रोध

जो मनुष्य अपने क्रोध को अपने ऊपर झेल लेता है वही दूसरों के क्रोध से बच सकता है और जीवन को सुखी बना सकता है। -- सुकरात
एक टिप्पणी भेजें