शुक्रवार, जून 13, 2014

अभागा

अत्‍याचार करने वाले से बढ़ कर अभागा आदमी और कोई नहीं होता क्‍योंकि विपति के समय उसका कोई मित्र नहीं होता। --- अज्ञात
एक टिप्पणी भेजें