निन्दा

निंदा एक ऐसा अवगुण है जो दुहरी मार मारता है। यह निंदक तथा निन्दित दोनों को घायल करता है। ---  अज्ञात

कोई टिप्पणी नहीं: