सुख

जो मनुष्‍य धन और धान्‍य के व्‍यवहार में, पढ़ने लिखने में, भोजन और लेन देन में निर्लज्‍ज होता है वही सुखी होता है। --- चाणक्‍य
एक टिप्पणी भेजें