विशालता

हमारी महानतम विशालता कभी भी न गिरने में नहीं अपितु गिरने पर हर बार फिर उठ जाने में निहित है । ---  कन्फ़्युशियस 

कोई टिप्पणी नहीं: