चिंता

जो सदा इसी चिंता से ग्रस्त रहता है की भविष्य में क्या होगा उससे कोई कार्य नहीं हो सकता। --- स्वामी विवेकानन्द
एक टिप्पणी भेजें