कर्म

अत्यंत निम्नतम कर्मों को भी तिरस्कार की दृष्ठि से नहीं देखना चाहिए । -- स्वामी विवेकानन्द

कोई टिप्पणी नहीं: