ताकतें

ब्रह्माण्ड में मौजूद सारी ताकते हमारे पास है। ये तो हम है जो अपनी आँखों पर हाथ रख लेते है और फिर अँधेरे का रोना रोते है। --- स्वामी विवेकानन्द 
एक टिप्पणी भेजें