भरोसा

भरोसा उस चिड़िया की तरह है जो भोर से पहले के अँधेरे में भी उजाले को महसूस कर लेती है । ---  रविन्द्र नाथ टेगौर
एक टिप्पणी भेजें