आज़ादी

बोलने की आज़ादी छीन ली जाए तो हमारी हालत कसाई के सामने बैठे मूक बधिर  मेमने सरीखी हो जायेगी । --- जार्ज वाशिंगटन

एक टिप्पणी भेजें