सीमा

सम्‍भव की सीमा जानने का एक ही तरीका है असम्‍भव से भी आगे निकल जाना । --- स्‍वामी विवेकानन्‍द

कोई टिप्पणी नहीं: