समाज

जिसे अपने ही ठुकरा दे तो समाज तो उसे स्वत: ही ठुकरा देगा। -- मिथ्या वाचस्पति

कोई टिप्पणी नहीं: