आलोचना

आलोचना से बचने की एक ही राह है, कुछ न करें, कुछ न कहे और कुछ न बने। -- अरस्तु

कोई टिप्पणी नहीं: