समय

समय एक नदी की मानिंद है, जो मुझे अपने साथ बहा ले जाती है, लेकिन मैं एक नदी हूं। यह एक शेर है , जो मुझे नष्ट कर देता है, लेकिन मैं भी शेर हूं। यह एक आग है जो मुझे जलाती है, लेकिन मैं खुद भी तो आग हूं। -- जॉर्ज लुईस बोर्खेज 
एक टिप्पणी भेजें