मानवता

मानवता, प्रकाश की वह नदी है जो सीमित से असीमित की ओर बहती है। 

कोई टिप्पणी नहीं: