खुशी

प्रेम के बिना जीवन उस वृक्ष की भांति है जो फूल तथा फलों से रहित है। 

कोई टिप्पणी नहीं: