चिंता व डर

मनुष्य की सभी चिंताएं औए डर उसकी इच्छाओं का परिणाम है, इच्छा को सिर्फ विवेक से नियंत्रित कर सकते है। 

कोई टिप्पणी नहीं: