लोकतंत्र

एक ऐसा लोकतंत्र जो अनुशासित हो और विवेकवान हो वह दुनिया की सबसे सुंदर वस्तु है। -- महात्मा गांधी 

कोई टिप्पणी नहीं: