कोशिश

कोशिश आखिरी सांस तक करनी चाहिए मंजिल मील या तजुर्बा दोनो ही नायाब है। 

कोई टिप्पणी नहीं: