स्वप्न

मैं उस चींटी की तरह हूं जो बार बार गिरने के बावजूद चढ़ती है। पर हार निराश नहीं करती। मैंने जान लड़ाकर काम किया और स्वप्न देखे।-- अमृतलाल नागर (1916- 1990) 

कोई टिप्पणी नहीं: